Posts

Showing posts from June, 2011

सापेक्षता का सिद्धांत (Relativity )

Image
सापेक्षता का सिद्धांत (Relativity)

जीवन ! एक ऐसी शक्ति, जिसे हर तरफ महसूस किया जा सकता है। आकाश, पाताल और जमीन, हर जगह इसके अंश किसी-न-किसी रूप में मौजूद हैं। जब से धरती बसी है, इसके कण-कण में बसा जीवन एक लय में थिरक रहा है। और जीवन के इस लय को निर्धारित करती है - गति यानि Motion.
वो नियम जो पता नहीं कब से गति को निर्धारित करते चलते आ रहे हैं। हां, ये अलग बात है कि मनुष्य को इसकी जानकारी करीब 300 साल  पहले ही हुई जब दुनिया ने इन नियमों को एक नए नाम से पहचाना  - सर Issac Newton.


Newton ने हमें ये बताया कि कोई भी वस्तु स्थिर या एक-समान गति की अवस्था में तब तक रह सकती है जब तक कि कोई बाहरी बल उस पर कार्य न करें। ये बल उसकी गति को एक खास दर से बढ़ा भी सकता है और घटा भी सकता है।  परंतु गति और उसके नियमों के साथ ये प्रश्न भी उठा कि गति का निर्धारण कैसे किया जाए ? जैसे मान लें दो रेलगाडि़यां एक ही दिशा में 50 km. प्रति घंटे की रफ्तार से जा रही हो तो उन गाडि़यों में बैठे यात्रियों के लिए दूसरी ट्रेन स्थिर नजर आएगी, जबकि प्लेटफार्म पर खड़ा व्यक्ति उन गाडि़यों को 50 km.प्रति घंटे की रफ्तार से जाता…